stock rom vs custom rom क्या है | stock rom क्या है | कस्टम रोम

 stock rom vs custom rom क्या है


Custom rom kya hai

Hello everyone उम्मीद करता हूँ की आप सब बिल्कुल अच्छे होंगे आज फिर से मैं आप लोगो के लिए एक informative पोस्ट लेकर आया हूँ,जिसमे हम बात करेंगे stock rom और custom rom क्या है या custom rom और stock rom क्या है इस बारे में विस्तार से जानेंगे इसके लिए आप पोस्ट पर लास्ट तक बने रहें तभी आप को stock rom और custom rom के बीच का अंतर अच्छे से समझ आयेगा,कभी न कभी तो आपने भी stock rom और custom rom का नाम सुना ही होगा लेकिन मुझे पता है की आपको ये नही पता custom rom kya hai या stock rom kya hai तभी तो आप इस पोस्ट को पढ़ रहे हैं

दोस्तों इस समय आपके हाथ में जो भी फ़ोन है इसमें जो भी एंड्राइड वर्शन है फिर वो चाहे kitkat हो या lolipop हो या कुछ भी हो सकता है oreo भी हो सकता है marshmallow nougat भी हो सकता है तो ये कम्पनी की तरफ से पहले से ही आपके फ़ोन में दिया जाता है,इसी को हम स्टॉक रोम (stock rom) कहते हैं,इसे एंड्राइड डेवलपर के द्वारा बनाया जाता है इसके लिए एक बहुत बड़ी टीम होती है जो की स्टॉक रोम (stock rom) मिल कर डेवेलोप करते है,फिर कम्पनी इसे आपके फ़ोन में डालकर पहले से ही देती है,और ये जो डेवलपर होते हैं,इनमें से ज़्यादातर गूगल कम्पनी के डेवलपर होते हैं,इसलिए स्टॉक रोम (stock rom) में हमे किसी भी तरह की प्रॉब्लम को फेस नही करना पड़ता है,और कस्टम रोम (custom rom) जो होता है वो किसी भी थर्ड पार्टी कम्पनी का हो सकता है,तो चलिए अब हम जान लेते है stock rom aur custom rom kya hai या difference between stock rom and custom rom in hindi .

स्टॉक रोम क्या है ? What is stock rom in hindi

स्टॉक रोम एक ओरिजनल और परफेक्ट रोम होता है,जिसे एक पर्टिकुलर कम्पनी के टीम द्वारा डेवेलोप किया जाता है,इसलिए इसमें कोई भी एरर (error) या बग (bug) नही होता है,और आप के फ़ोन में जो इस टाइम रोम है वो स्टॉक रोम (stock rom) ही है,अब एंड्राइड वर्शन कोई सा भी हो सकता है जैसे की किटकैट,लॉलीपॉप,ओरियो आदि ये सब आपके स्टॉक रोम ही होते हैं,और इसमें समय के साथ-साथ कम्पनी आपको नए-नए अप्डेट्स भेजती रहती है,तो ऐसे में अगर कोई bug या error होता भी है।

 तो उसे अपडेट करने के बाद बहुत ही आसानी से सॉल्व या फिक्स हो जाता है,और इसमें किसी भी तरह का कोई रिस्क नही होता है ये पूरी तरह से रिस्क फ्री होता है और साथ ही bug या error फ्री भी होता है,क्यू की इसकी जो कोडिंग होती है वो पूरी तरह से क्लीन होती है,और मैंने आपको पहले ही बताया है कि अगर इसमें कभी किसी तरह का bug या error आ भी जाता है 

तो एंड्राइड डेवलपर टीम बहुत ही जल्द उस बग या एरर को फिक्स कर देती है,क्यू की कम्पनी के पास डेवेलोपेर्स की बहुत बड़ी टीम होती है,bug या error फिक्स होने के तुरंत बाद ही कम्पनी आपके फ़ोन में अप्डेट्स भेज देती है,फिर आप उस पर क्लिक कर के अपने फ़ोन को अपडेट कर सकते हैं,और आपका बग और एरर भी पूरी तरह से सॉल्व हो जायेगा।इसकी सिक्योरिटी भी बिल्कुल नेक्स्ट लेवल की होती है,इसलिए हम स्टॉक रोम (stock rom) पर पूरी तरह से ट्रस्ट कर सकते हैं,तो अब आपको पता चल गया होगा की stock rom kya hota hai ( stock rom क्या है )

मॉनिटर कितने प्रकार के होते हैं – ज़रूर पढ़ें

माउस क्या है – ज़रूर पढ़ें

हैकर कितने प्रकार के होते हैं – ज़रूर पढ़ें

कस्टम रोम क्या है ? What is custom rom in hindi

Custom rom kya hai

Custom rom ये एक थर्ड पार्टी रोम होता है,जिसे कोई भी डेवेलोपर के ज़रिये डेवेलोप किया जाता है,जब आपको अपने फ़ोन का version मैन्युअली अपग्रेड करना होता है,तब आपको कस्टम रोम को डाउनलोड कर करने की ज़रूरत पड़ती है,जो की आपको इन्टरनेट पर आसानी से मिल जाता है,इसे कोई भी डेवेलोपर डेवेलोप कर के इन्टरनेट पर अपलोड कर देता है,लेकिन इसमें सिक्योरिटी की कोई गारंटी नही होती है,क्यू की इसे कोई भी डेवेलोप कर के इन्टरनेट पर अपलोड कर सकता है,बस उसके लिए कोडिंग और प्रोग्रामिंग आनी चाहिए,लेकिन कस्टम रोम में किसी भी तरह का error या bug हो सकता है,और ये इतना सिक्योर भी नही होता,क्या पता इस डेवेलोपर ने किस तरह से इसकी कोडिंग की हो,या इसका कोड क्लीन हो या न हो तो ऐसे में इसकी कोई गारंटी नही होती है।

फिर भी अगर आपका मन है तो आप custom rom download कर सकते हैं,और अपने फ़ोन को अपग्रेड कर सकते हैं,लेकिन उसके पहले आपको अपना फ़ोन root करना होगा,तभी आप अपने फ़ोन में कस्टम रोम इंस्टॉल कर पाएंगे,अगर आपको नही पता है की फ़ोन को रुट कैसे करते हैं,तो root पर क्लिक करें उसे पढ़ कर अच्छी तरह से समझ जाएंगे फ़ोन रुट कैसे करते हैं,दोस्तों कस्टम रोम में अगर कभी कोई error या bug आ जाता है तो आप उसे खुद से फिक्स यानि की सॉल्व नही कर सकते हैं,इसके लिए आपको फिर से दूसरा कस्टम रोम इंस्टॉल करना पड़ सकता है,और कस्टम रोम इंस्टाल करते वक़्त आपका फ़ोन dead भी हो सकता है,इसीलिए मैं तो आपको यही सलाह दूँगा की आपके फ़ोन में जो स्टॉक रोम कम्पनी ने इंस्टॉल कर के दिया है,आप उसी को इस्तेमाल करें,कस्टम रोम के चक्कर में न पड़े हाँ अगर आपको लगता है की आपको कस्टम रोम इंस्टॉल करने की ज़रूरत है।

तब आप इसे इंस्टॉल कर सकते हैं,लेकिन अगर आपका फ़ोन ठीक ठाक चल रहा है,तो उसके ROM के साथ छेड़छाड़ न करें,कस्टम रोम इंस्टाल करने के कुछ अपने फायदे भी होते है,कुछ नही बल्कि बहुत कुछ फायदे भी होते हैं,जैसे की आपको पता है हम अपने फ़ोन में सिस्टम ऍप को अनइंस्टाल नही कर सकते हैं,लेकिन कस्टम रोम को इनस्टॉल कर के हम सिस्टम ऍप को भी अनइंस्टाल कर के अपने फ़ोन का रैम बचा सकते हैं,सिर्फ इतना ही नही हम जिस तरह से चाहे अपने फ़ोन को कस्टमाइज कर सकते हैं,फ़ोन का font style, display style जैसे अन्य चीज़ों को भी आसानी से कस्टमाइज कर सकते हैं,चलिये अब हम स्टॉक रोम और कस्टम रोम के बीच का अंतर जान लेते हैं।

difference between stock rom and custom rom in hindi (Stock rom और custom rom में अंतर)

● stock rom कम्पनी के डेवेलोपर के द्वारा बनाया जाता है,जो की फ़ोन में पहले से ही कम्पनी इंस्टॉल कर के देती है,इसे ओरिजनल रोम भी कहा जा सकता है,इससे आपके फ़ोन की वारंटी भी नही खत्म होती है।

● custom rom किसी भी थर्ड पार्टी डेवेलोपर के द्वारा बनाया जाता है,और इसे कोई भी बना सकता है इसके लिये बस कोडिंग की नॉलेज होना चाहिए,जिसे हम अपने फ़ोन में इंटरनेट से डाउनलोड कर सकते हैं,लेकिन इसे इंस्टॉल करने से फ़ोन की वारंटी खत्म हो जाती है।

Custom rom kya hai

● stock rom में आपको किसी भी तरह की कोई दिक्कत का सामना नही करना पड़ता है,क्यू की इसकी कोडिंग क्लीन और परफेक्ट होती है,जिसे डेवेलोपर की एक पूरी टीम के द्वारा डेवेलोप किया जाता है,और फिर भी अगर आपको इसमें कोई error या bug आ जाता है तो कम्पनी इसका solution तुरंत निकाल लेती है,और आपके फ़ोन में अपडेट भेज देती है,जिसे इंस्टाल कर के आप इस error या bug को आसानी से सॉल्व कर सकते हैं।

● custom rom में आपको ज़्यादातर चांसेस रहते हैं की आपके फ़ोन में कोई error या bug आ जाए,और आप इसे सॉल्व भी नही कर सकते हैं,इसके लिए आपको फिर से दूसरा रोम इंस्टॉल करना होगा,इसकी कोडिंग इतनी क्लीन और परफेक्ट नही होती है।

● stock rom को कम्पनी के डेवेलोपर द्वरा बनाया जाता है,इसलिए हम इसकी सिक्योरिटी पर पूरा भरोसा कर सकते हैं।

● custom rom को किसी ऐसे ही डेवेलोपर के ज़रिये बनाया जाता है इसलिए हम इसकी सिक्योरिटी पर इतना भरोसा नही कर सकते हैं।

● stock rom में हम सिस्टम एप्लीकेशन को डिलीट यानि की अनइंस्टाल नही कर सकते हैं जैसे की camera, youtube, gallery etc.

●custom rom में हम सिस्टम ऍप को आसनी से डिलीट या अनइंस्टाल कर सकते हैं,फिर वो चाहे कोई सा भी एप्लीकेशन हो।

● stock rom में हम अपने हिसाब से किसी भी तरह का कस्टमाइज़ेसन नही कर सकते हैं,फिर वो चाहे डिस्प्ले होम सेटिंग हो या फॉन्ट स्टाइल सेटिंग हो या एप्लीकेशन सेटिंग हो।

● custom rom में हम अपने हिसाब से कोई सा भी कस्टमाइज़ेसन कर सकते हैं,फिर वो चाहे फ़ोन सेटिंग हो या स्क्रीन सेटिंग हो या टेक्स्ट सेटिंग हो।

● stock rom पूरी तरह से सेफ एंड सिक्योर होता है।

● custom rom इंस्टॉल करते वक़्त कोई भी मिस्टेक हो गयी तो हमारा फ़ोन हमेशा के लिए dead भी हो सकता है।

दोस्तों उम्मीद करता हूँ आपको अच्छी तरह से समझ आ गया होगा की स्टॉक रोम और कस्टम रोम क्या है फिर भी अगर आपके मन में इससे रेलटेड किसी भी तरह का डाउट हो तो आप नीचे कमेंट कर के भी पूछ सकते हैं हमारी टीम आपको रिप्लाई देने की पूरी कोशिश करेगी,अब आप की बारी है ज़्यादा से ज़्यादा इस पोस्ट को फेसबुक या व्हाट्सअप्प आदि पर शेयर करें इससे हमारी टीम को भी मोटिवेशन मिलता है,आपका सपोर्ट हमारे लिए बहुत ज़रूरी है,और साथ ही नोटिफिकेशन bell को भी press कर दें ताकी जब भी हम कोई न्यू पोस्ट लेकर आएं तो सबसे पहले आपको इसकी जानकारी मिल जाये।

Leave a Comment