Kailash parvat kahan hai | कैलाश पर्वत किस देश में है – पूरी जानकारी

Kailash parvat kahan hai | कैलाश पर्वत किस देश में है – पूरी जानकारी


Kailash parvat kahan hai | कैलाश पर्वत किस देश में है - पूरी जानकारी

हैल्लो एवरीवन कैसे हैं आप सब उम्मीद करता हूँ आप सब बिल्कुल ठीक होंगे आज फिर से एक बेहतरीन आर्टिकल के साथ मैं आप लोगों के सामने हाज़िर हूँ आज के इस आर्टिकल में हम जानने वाले हैं kailash parvat kahan hai या कैलाश पर्वत किस देश में है क्यू की कैलाश पर्वत के बारे में बहुत सारे लोगों को ज़रा भी जानकारी नही होती है इस वजह से मैं इस आर्टिकल को लिख रहा हूँ ताकि जो लोग कैलाश पर्वत के बारे में ज़्यादा जानकारी नही रखते हैं उन्हें इसकी संपूर्ण जानकारी प्राप्त हो जाए इस लेख में मैंने आपको कैलाश पर्वत से जुड़ी सारी महत्वपूर्ण जानकारियां दिया है इस लेख को पढ़ने के बाद आपको बहुत कुछ जानने को मिलेगा तो चलिए बिना किसी देरी के हम कैलाश पर्वत से जुड़ी सभी जानकारियां जान लेते हैं।

Kailash parvat kahan hai | कैलाश पर्वत किस देश में है

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार कैलाश पर्वत को भगवान शिव और माता पार्वती का घर माना जाता है और कहा जाता है कि भगवान शिव यहीं पर निवास करते हैं इसके अलावा जैन बौद्ध और सिक्खों के लिए भी ये स्थान काफी पवित्र माना जाता है हर साल यहां पर हजारों यात्री इस तीर्थ यात्रा पर आते हैं ये जो कैलाश पर्वत है और मानसरोवर झील है यह फिलहाल चीन में है अब आपको पता चल गया होगा की कैलाश पर्वत कहां है या kailash parvat kahan per hai और पुराणों के अनुसार भगवान शिव का निवास स्थान होने के कारण ये स्थान भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है और यहां पर कैलाश पर्वत के पास में ही मानसरोवर झील भी है और इसीलिए इस यात्रा को कहा जाता है कैलाश मानसरोवर यात्रा क्योंकि यहां पर कैलाश पर्वत है इसके अलावा मानसरोवर झील है तो इन दोनों को कहा जाता है कैलाश मानसरोवर यात्रा इस यात्रा को केवल सरकार ही आयोजित कराती है और इस यात्रा को करने में कई धार्मिक स्थल रास्ते में पढ़ते हैं रास्ते में सुंदर चोटिया पर्वत देखने को मिलती हैं यात्री शानदार अनुभव का आनंद लेते हुए इस यात्रा को कर सकते हैं और शिव भक्तों के लिए यह स्थान किसी स्वर्ग से कम नहीं है और शिव भक्तों की मन में कामना होती है कि वह अपने जीवन में एक बार कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जाए यहां पर चारों तरफ आपको बस लेटे हुए पहाड़ सामने मानसरोवर झील यह एक ऐसा सुंदर दृश्य होता है जिसकी आप कल्पना भी नहीं कर सकते हैं।

बहुत लोग इस स्थान के बारे में मानते हैं कि उनके एक संत कवि ने यहां पर तपस्या की थी इसके अलावा वो ये भी मानते हैं कि महात्मा बुद्घ भी यहां पर आए थे इसीलिए बौद्ध लोगों के लिए ये स्थान पवित्र है इसके अलावा जो जैन लोग होते हैं वो भी मानते हैं कि उनके ऋषभदेव यहां पर आए थे इसलिए जैन लोग भी इस स्थान को बहुत पवित्र मानते हैं इसके अलावा सिखों के लिए भी यह स्थान काफी पवित्र है क्यू की इनके गुरुनानक जी भी यहां एक बार आए थे अगर आप भी यहां जाना चाहते हैं तो आपको बता दूं ये यात्रा जून से लेकर सितम्बर तक चलती है।

इसी दौरान आप यहां पर यात्रा कर सकते हैं इसके लिए आवेदन फरवरी से लेकर अप्रैल तक स्टार्ट हो जाते हैं इसी दौरान आपको ऑनलाइन आवेदन करना होता है तभी आप इस यात्रा को कर सकते हैं इस यात्रा में 18 से लेकर 70 साल के ही लोग जा सकते हैं अगर आपकी उमर इससे कम या ज़्यादा है तो आप इस यात्रा पर नही जा सकते हैं जाने से पहले आपके पास कुछ ज़रूरी डॉक्युमेंट्स होने बहुत ही ज़रूरी हैं जैसे कि सबसे पहले पासपोर्ट की आवश्यकता पड़ती है क्योंकि यह कैलाश मानसरोवर पड़ता है चीन में और वहां जाने के लिए आपको पासपोर्ट की आवश्यकता पड़ेगी इसके बाद आपको ऑनलाइन आवेदन करना होगा और ऑनलाइन ही आप फीस जमा कर सकते हैं इसके अलावा कुछ हेल्पलाइन नंबर भी दिए होते हैं जिससे आप कंपनी से डिटेल प्राप्त कर सकते हैं नंबर है 011-24300655 पर कॉल करके जानकारी प्राप्त कर सकते हैं ये जो कैलाश मानसरोवर यात्रा है यह दो रातों से होती है एक उत्तराखंड की और दूसरी सिक्किम से इन दोनों रास्तो के अलग-अलग चार्जेस् हैं उत्तराखंड की रास्ता से जाने पर लगभग 1 लाख 90 हज़ार का खर्च आता है इसमें आपका आना, जाना, खाना और रहना सबकुछ शामिल होता है और अगर सिक्किम की रास्ते से जाते हैं तो लगभग ढाई लाख रूपये तक खर्च आजाता है तो जब आप ऑनलाइन आवेदन कर देंगे तो ऑनलाइन आवेदन करने के बाद आपका सिलेक्शन अगर होता है तो आपको एसएमएस के द्वारा बता दिया जाता है इसके बाद दिल्ली में आपका मेडिकल होता है दिल्ली के दिल्ली हार्ट एंड लंग इंस्टीट्यूट में आपका यहां पर मेडिकल होता है और एक मेडिकल यहां पर होने के बाद जब फाइनली आप इस यात्रा के लिए जाते हैं।

तो आईटीबीपी के हॉस्पिटल में भी एक मेडिकल वहां पर भी होता है ये यात्रा काफी कठिन है तो इसलिए मेडिकल चेकअप होना बहुत ही जरूरी होता है जिनको हाई बीपी, शुगर की बीमारी मिर्गी की बीमारी गंभीर बीमारी हैं तो उनको इस यात्रा पर जाने की अनुमति नहीं दी जाती है यात्रा पर जाने से पहले आपको दिल्ली में 3 से 4 दिन रुकना होता है यहां पर आपका सारा मेडिकल हो जाता है डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन हो जाता है और साथ में कुछ विशेष ट्रेनिंग दी जाती है ताकि आप वहां पहाड़ की ऊंचाई वाले इलाकों में आसानी से जा सके क्योंकि यह यात्रा 19 हज़ार 500 फिट की ऊँचाई पर काफी कठिन यात्रा है तो जैसा कि मैंने आपको बताया कि यह यात्रा 2 मार्गो से होकर जाती है इस यात्रा को करने में 25 से 30 दिन लग जाते हैं और यह यात्रा दुनिया की मुश्किल धार्मिक यात्राओं में से एक मानी जाती है इस यात्रा में हर साल 18 बैच भेजे जाते हैं 18 बैचों में लगभग 1000 यात्री शामिल होते हैं अगर आप भी कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जाने का मन बना रहे हैं तो जैसे ही इसकी डेट आती है आप तुरंत ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं तभी आप इस यात्रा पर जा पाएंगे और अगर आपके पास पासपोर्ट नहीं है तो सबसे पहले आपको अपना पासपोर्ट बनवा कर तैयार करवा लेना क्योंकि इस यात्रा के लिए पासपोर्ट ही सबसे ज्यादा जरूरी है।

कैलाश पर्वत कहां पर है ?

कैलाश पर्वत तिब्बत में है यहां से बहुत सारी मत्वपूर्ण नदियाँ भी निकलती हैं।

कैलाश पर्वत का रहस्य क्या है ?

कैलाश पर्वत कोई मामूली पर्वत नहीं है वैसे तो कैलाश पर्वत से भी ऊंचे पर्वत मौजूद है लेकिन उन पर अब तक लोगों ने हजारों बार चढ़ा है लेकिन कैलाश पर्वत ही एक ऐसा मात्र पर्वत है जिस पर आज तक कोई चढ़ नहीं पाया है जिसने भी इसके ऊपर जाने की कोशिश की है वह जिंदा लौट कर वापस नहीं आया है यह आज भी एक बहुत बड़ा रहस्य है वैज्ञानिक इस रहस्य को सुलझाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन अब तक इस रहस्य को कोई नहीं पाया है।

कैलाश पर्वत कहां स्थित है ?

कैलाश पर्वत तिब्बत में स्थित है।

कैलाश पर्वत की कहानी ?

कैलाश पर्वत की कहानी मैंने आपको ऊपर पहले ही बता दिया है जैसा कि मैंने अभी आपको बताया है कि कैलाश पर्वत को शिव और पार्वती का घर माना जाता है और यहां पर बौद्ध और जैन के बड़े-बड़े संत भी जा चुके हैं इस वजह से ये लोग भी इस स्थान को बहुत पवित्र मानते हैं।

Brahman ko kaise kabu karen – पूरा पढ़ें

ठाकुर की औकात क्या है – पूरा पढ़ें

Mobile hack hai kaise pata kare | कैसे पता करे कि मेरा फोन हैक है

अंतिम शब्द

 आज के इस लेख में मैंने आपको बताया है kailash parvat kahan hai या कैलाश पर्वत किस देश में है हमें करता हूं आपको सब कुछ अच्छी तरह से समझ आ गया होगा और कैलाश पर्वत से रिलेटेड आपको सारी जानकारी प्राप्त हो चुकी होगी अगर फिर भी आपके मन में इस से रिलेटेड कोई सवाल हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं पोस्ट अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें इस पोस्ट को शुरू से लेकर अंत तक पढ़ने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद।

टैग- kailash parvat kahan sthit hai , कैलाश पर्वत किस देश में है , kailash parvat kahan hai , कैलाश पर्वत।

Leave a Comment