isp क्या होता है | what is isp in hindi

isp क्या होता है | what is isp in hindi

आज की इस पोस्ट में हम विस्तार से जानेंगे isp क्या है और 

कैसे work करता है। आज कल लगभग हर किसी के पास स्मार्टफोन है और आप सब इन्टरनेट का इस्तेमाल भी करते हैं क्या आपको पता है हमे इन्टरनेट कौन provide करता है अगर नहीं पता है तो पोस्ट को पूरा पढ़ते रहिये सब कुछ समझ आजायेगा। आज कल इन्टरनेट के बिना रह पाना बहुत मुश्किल है क्यू की हम हर जगह इन्टरनेट का इस्तेमाल करते हैं चाहे ऑफिस वर्क के लिए या होम वर्क के लिया या किसी भी ऑनलाइन वर्क के लिए हमे इन्टरनेट की ज़रूरत पड़ती ही पड़ती है।


लेकिन इन्टरनेट इस्तेमाल करने के पहले हमें ISP से कनेक्शन लेना पड़ता है क्यू की ISP ही हमे इन्टरनेट प्रोवाइड करता है। ISP इन्टरनेट के साथ साथ कई दूसरी सर्विसेस भी अपने कस्टमर को प्रोवाइड करता है जैसे की डोमेन रजिस्ट्रेशन, वेब डिजाईन, वेब होस्टिंग, ब्राउज़र, ईमेल सर्विसेस,एंटीवायरस सॉफ्टवेयर etc फ़ोन को इंटरनेट से कनेक्ट करने के लिए ISP एक ज़रिया है एक रास्ता है इस रास्ते को पार करने के बाद ही आप इंटरनेट से कनेक्ट हो पाते हैं और कोई भी ऑनलाइन एक्टिविटी कर पाने में सफल होते हैं। भारत में अगर बात करे ISP टेलीकॉम की तो इनमें शामिल हैं Jio, Airtel, BSNL, Idea, Vodafone etc



what-is-isp-in-hindi


ISP ka Full Form in English

isp ka full form होता है Internet Service Provider

ये भी पढ़ें vpn क्या है

isp level kitne prakar ke hote hain

अब हम बात करेंगे इनके लेवल की और उन सभी लेवल को जानेंगे बहुत आसान तरीके से ISP तीन लेवल पे है Tier1,Tier2 और Tier3 ISPs तो चलिए अब तीनो tier की बात कर लेते हैं।

Tier1 ISP

Tier1 ISP कम्पनी बहुत बड़ी होती है सबसे बड़ी ISP कम्पनी भी कह सकते हैं क्यू की ये अलग अलग देश के नेटवर्क को जोड़ती है ये कम्पनी ज़मीन के अंदर केबल बिछा कर अलग अलग देशो को इन्टरनेट प्रोवाइड करती है। और tier1 कंपनी को इन्टरनेट प्रोवाइडर का बैकबोन भी कहते हैं क्यू की पूरे इन्टरनेट को यही कम्पनी चलाती है अगर ये किसी वजह से fail हो जाये तो इन्टरनेट चलना बन्द हो जाये। इसलिए इन्टरनेट प्रोवाइड करने में इस कम्पनी का बड़ा योगदान है। और जो इन्टरनेट हम इस्तेमाल करते हैं पैसे देकर वो पैसा इन्ही कम्पनी के पास जाता है क्यू की इन्टरनेट का कोई एक अकेला मालिक नहीं है

Tier1 isp example- China Unicorn, Tata TGN Indicom, Hibernia Network, Sprint, Verizon etc

Tier2 ISP

ये tier1 और tier3 के बीच में काम करता है 

क्यू की इसकी पहुँच कम होती है मतलब देश के अंदर तक ही सीमित रहती है और ये खुद इन्टरनेट किराये पे खरीदती है tier1 कम्पनी से और फिर हमें इन्टरनेट बेचती है जो भी रिचार्ज हम करवाते हैं इसका पैसा इसी के पास जाता है और उसके बाद यही कम्पनी tier1 कम्पनी को किराया का पैसा देती है।

TIer2 isp example- jio, vodafone, idea, airtel etc

Tier3 ISP

ये छोटी कम्पनी होती है इसका नेटवर्क लोकल एरिया तक ही सीमित होता है क्यू की जैसे tier2 कम्पनी इन्टरनेट खरीदती है tier1 कम्पनी से ठीक उसी तरह tier3 कम्पनी इन्टरनेट खरीदती है tier2 कम्पनी से और फिर लोकल एरिया में इंटरनेट प्रोवाइड करती है।

Tier3 isp example- High Tech ISP, Comcast, Internet Solution etc

ये भी पढ़े- ip address क्या है

ISPs यूजर को इन्टरनेट से कैसे जोड़ते हैं?

इन्टरनेट से अपने फ़ोन को कनेक्ट करने के लिए आप को सबसे पहले एक ISP connection लेना पड़ता है फिर आप उसमे कोई सा रिचार्ज प्लान करवाते है पैसे देकर फिर आपको परमिशन मिल जाती है इंटरनेट से कनेक्ट होने की और साथ ही आपके डिवाइस को एक ip address भी प्रोवाइड करदेती है  ISP company तो इस तरह से आप इंटरनेट का आनंद ले पाते हैं। उम्मीद करता हूँ आप सब को अच्छी तरह से समझ आ गया होगा isp kya hai तो इस पोस्ट को आगे भी अपने दोस्तों को ज़रूर शेयर करें।

Leave a Comment